Wednesday, 26 December 2012

स्मरण शक्ति यूँ बढ़ाएं


                         मेमोरी पावर यूँ बढ़ायें। 

          आज कल देश में मेमोरी पावर बढ़ाने के लिए दवाओं की बिक्री तेज गति में है। भड़कीले विज्ञापनों के कारण युवा पीढ़ी इनकी ओर जल्दी आकर्षित हो जाता हैं और मेमोरी पावर बढ़ाने के चक्कर  में अपनी जेब ढीली  किए बैठते हैं।  कुशाग्र बुद्धि के लिए, यादाश्त तेज करने के लिए आज कुछ आसान तरीके और उपाय बताने जा रहा हूँ जिसका प्रयोग करके प्रेक्टिकली तौर पर तुरंत फायदा उठाया जा सकता है। यह उपाय प्राचीन जरुर है किन्तु तरो-ताजा है। आप इस लेख को ध्यान से पढ़े और ढंग से प्रयोग करें आपको शत-प्रतिशत लाभ मिलेगा।
         
          आज के समय में लोकप्रिय होना है, साक्षात्कार -परिक्षा पास करनी हो, व्यवसाय तरक्की पर ले जानें हों, सर्विस में प्रोग्रेस पानी हो अथवा समाज में हाईलाइट होना है तो बुद्धि और व्यवहार में नम्रता तो होना ही चाहिए किन्तु यादाश्त का तीव्र होना अतिआवश्यक है। अर्थात हमारा स्मरण शक्ति ट्रान्सफार्मर  की भांति होना चाहिए जो बौद्धिक तरंग को सक्रिय भी बनाये रखे और उसकी उर्जा को निरंतर वृद्धि भी करे। मैं तो कहता हूँ, इसके लिए किसी प्रकार की दवा खाने की जरुरत ही नहीं। देश की धरोहरों में तमाम ऐसे उपाय संग्रहित हैं कि, उसका प्रयोग करके मनचाही स्थिति बनाई जा सकती है। इसके लिए आपको मात्र कुछ विधिं प्रयोग करने है। पहला- शीर्षासन दूसरा- कच्चे आंवले का रस। 
            
          शीर्षासन में स़िर नीचे और पाँव सीधा ऊपर करने का दैनिक अभ्यास करें तथा कच्चे आंवले का रस सुबह में खाली पेट एक चम्मच लें। इसका असर केवल 30 दिनों में देखकर आपको आश्चर्य होगा। परन्तु यह आसान फार्मूला भी बहुतों को झमेला दिखेगा।  इसलिए स्मरण शक्ति (मेमोरी पावर) चुस्त और तन्द्रुस्त बने, मेरे द्वारा दी जा रही  विधि को अपनाएं। किसी भी हाथ की अनामिका उंगुली में एक हरे रंग का छल्ला या रबरबैंड डालें। निष्ठ उंगुली में लाल रंग का छल्ला या रबरबैंड डालें। इसका प्रभाव आपके विवेक ग्रंथियों पर पड़ता  है जो आपके दिमाग के फालतू कचरे को हटाता रहता है और बुद्धि  को ब्लेड की तरह से पैना बनाता जाता है। 
            
          ध्यान रखें छल्ला या रबरबैंड ज्यादा ढीला भी न हो, ज्यादा तंग भी न हो। इसका प्रयोग आज और अभी से करके देख सकते हैं। क्योंकि यह अनामिका उंगुली पर हलके दबाव के कारण अन्दर हिप्नोटिक तरंग यानी सम्मोहन की उर्जा बनाता है जिससे आपके व्यक्तित्व में भारी निखार आने लगता है। वाणी में मधुरता बढ़ जाती है। नेत्रों की रोशनी में वृद्धि होने लगती है। सुंघने की शक्ति भी तेज होने लगती है। इसके बाद जब भी चलें, जहाँ भी चलें, दोनों हाथ के पंजे को मुटठी की शक्ल में करके चलें। आप जैसे ही इस पोज में आयंगे आपके अन्दर एक विशेष उर्जा का निर्माण होना आरम्भ हो जाता है जिसे हिप्नोटिक उर्जा  कहते हैं। यह उर्जा शरीर और  मन का विज्ञान है जो अदृश्य होते हुए भी पावरफुल  होता है। 
           
         यह उर्जा आपको धैर्यवान भी बनाता है और विवेकशील भी। आप इन्हें बिना संदेह आजमाएँ, इसका हाथो हाथ लाभ पाकर दंग रह जाएँगे। ऐसी उर्जा की तेज गति में प्राप्ति के लिए बैठने की विधि भी एक खाश होती है, अर्थात जब भी बैठें, जहाँ भी बैठें, अलर्ट होकर सावधान मुद्रा में बैठें। यानि मेरुदंड बिलकुल सीधा रखें। ये जितना ही सीधा रखेंगे उतना ही तरंगे अन्दर पहुंचकर उर्जा का काम करेंगी। आपके भीतर की आलस को ख़त्म करती रहेगी। चैतन्यता और सक्रियता देगी। रात को विस्तर पर सोने के समय शवासन में सोने कि आदत डालें तो यह सोने पे सुहागे की भांति असर करेगा। सभी आसनों में शवासन ही अकेले इतना प्रभावकारी है कि, केवल शवासन से भी कुंडलिनी जागरण की जा सकती है किन्तु साधारणतः दुस्कर योग है। शवासन में पीठ के बल लेटकर क्रम से पांव की उंगुली से लेकर मस्तिष्क  तक  शिथिल किया जाना चाहिए। इसके लिए चैतन्य मंत्र का मन ही मन उच्चारण कर सकते हैं। मंत्र- ओंम चैतन्य चैतन्य स्वाहा।  
           
          शवासन में नींद भी लग जाती है तो घबराने की बात नहीं, वह नींद भी अति आनंददायक होगी यह जागने पर अनुभव हो जाता है। 
           
         विशेष सुझाव और सहयोग- यदि आप अपने स्मरण शक्ति से खिन्न हैं तो यह नगेटिव सोंच है, आप उपरोक्त उपाय को बेहिचक आजमाएँ ये सहज और सरल हैं। इसमें कोई धन खर्च नहीं होता, जब इसे करना शुरु करेंगें तो आदत लग जाएगी और आप इसे अपने दैनिक कार्य में सामिल कर लेंगे। मगर------किन्हीं कारणवश ये सब न कर पायें तो सिर्फ माथे पर महोष्ठ्गंध की बिंदी या तिलक लगाकर लाभ पायें। महोष्ठागंध में केसर, चन्दन, रोली आदि के साथ कुछ वनस्पति सहित इसे आंवले के रस में मिलाकर तिलक या बिंदी करके स्मरण शक्ति के लिए लाभ उठाया जाता है। इसे माथे पर लगाते ही शीतलता का आभास होता है। और सत्य भी यही है कि, जब ऐसा तिलक या बिंदी आज्ञाचक्र पर लगाया जाता है तो व्यक्ति की बुद्धि कुशाग्र ही नहीं बल्कि अति मेधावी होते हुए स्मरण शक्ति का धनी  हो जाता है। इस सम्बन्ध में किसी भी प्रकार की जानकारी  फोन करके प्राप्त कर सकते है। 
                                                                हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 
                                                                                         अशोक भैया   9565120423

Tuesday, 25 December 2012

चुनाव जीतना सरल है.


                    !! चुनाव जीतना सरल है !!

       देश भर में राजनीति  की लहर है। हमेशा कोई न कोई चुनाव। एक पद के लिए एक हजार प्रत्यासी। सभी का अपना-अपना दावा कि, हमारा चुनाव निकल रहा है, कृपया मेरा सपोट करना। चुनाव तो निकलेगा ही, मगर किसी एक का ही। लेकिन दावा सभी का होता है। ये भी एक विचित्रता ही है। या समाज को ही ग़लतफ़हमी में डाला जाता है। या फिर खुद ही ग़लतफ़हमी में होता है हर प्रत्यासी। और यह ग़लतफ़हमी सचमुच ऐसा वायरस है जो जिंदगी को ही अँधेरे में करके रख देता है। 
      
     अब करते रहिए दावा और देते रहिए चुनौतियां। होगा वही जो डंके की चोट पर किया जाएगा। और डंके की चोट वही दिखाता है, जो खुद में भी दम रखता है और दाम भी। मेरे खयाल से दुनिया में कुछ असंभव तो है ही नहीं, क्योंकि हर समस्या का समाधान -------------- समस्या की तकनीक पर ही निर्भर है। यानी  जैसी समस्या या जरुरत वैसा समाधान अथवा पूर्ति। आज मैं किसी भी चुनाव में विजेता होने का कुछ सटीक उपाय बताऊंगा जिसका विधि पूर्वक प्रयोग किया जाय तो निश्चित ही चुनाव में विजय हासिल किया जा सकता है। ये उपाय सभी तरह के  चुनाव के लिए उपयुक्त होगा। लाभ निश्चित ही मिलेगा। 
     
    किसी भी  चुनाव में कुछ बुनियादी बातें प्रत्यासी में होना आवश्यक है। जैसे- कर्मठता, समाजसेवी भावना, व्यवहारशीलता आदि। ईमानदारी की बात मैं नहीं करता यह फैसला चुनाव निकलने के बाद आप करेंगे। अभी समाज में यह चर्चा जरुर होनी चाहिए कि, आप व्यक्तित्व और व्यवहार के राजा हैं, तो आपको चांस दिया ही जा सकता है। फिर तो आप समझ लीजिए 60% चुनाव जीत गए। अब आता है चुनाव जीतने के लिए संत ऋषिओं  का आशीर्वाद और ग्रन्थ शास्त्रों से चुनी गई कुछ बेजोड़  प्रभावशाली विधिंयां जो आपके पोलिटिक्स प्रयास को पूर्ण सफल बना सकती है। 
      
विधि - 1 

हत्थाजोड़ी एक जंगली वनस्पति होता है जिसे काफी दुर्लभ माना जाता है। किन्तु असंभव नहीं है। तो हत्थाजोड़ी प्राप्त करें जो पूरे विधि-विधान से ग्रहणकाल में सिद्ध किया हुआ हो। यदि आपके नाम से सिद्ध करके मिल जाय तो और उत्तम होगा। इसे प्राप्त करके चाँदी की डब्बी या लाल वस्त्र में करके पीला सिंदूर, कपूर और बिना टूटे चावल के कुछ दाने  के साथ रखें। तत्पश्चात नवार्ण  मंत्र का 21 बार उच्चारण करते हुए सामान्य पूजन करके तिजोरी अथवा अपने पर्स में रखें। जनसंपर्क से लेकर पर्चा दाखिला तक इसे अपने जेब में ही रखें, किन्तु शुद्धता का ध्यान रखें। हथाजोड़ी आपका वोट बैंक ऐसे बढ़ाता जाएगा जैसे दीप से दीप जलाया जाता है। कुछ समय में ही बेतहासा जनसंपर्क चकित करने योग्य होगा।
   
विधि  - 2
   
बगलामुखी कवच और त्रिशक्ति कव प्राप्त करके गले में धारण करें। इसके धारण से विरोधियों  को नर्वस करने में सुविधा मिलेगी। माहौल भी मजबूत बनेगा। ग्रहों  को कंट्रोल करना भी इनका काम है ताकि चुनाव आप का ही निकले। 
       
विधि - 3    

अपने मकान के पूरब उत्तर दिशा में  सम्पूर्ण वास्तु दोष नाशक यन्त्र की स्थापना कर दें ताकि आपको वास्तु स्थिति का भी सपोट मिले। छोटा-मोटा दोष भी चुनाव के समय में वाधक न बने बल्कि आपको सामाजिक सपोट दिलवाते हुए निश्चित ही भारी विजय प्रदान करे। 
   
 विशेष -   यदि आप वाकई राजनीति से हैं तो इन विधियों का प्रयोग अवश्य करें, इनका प्रभाव आपको पूरी तरह से सकारात्मक मिलेगा। किन्तु सामग्रियां सिद्ध और शुद्धतम होनी चाहिए। ये दुर्लभ जरुर हैं मगर नामुमकिन नहीं। प्रयास करेगें तो इनकी उपलब्धि कर लेंगे। चूँकि इसका प्रेक्टिकल प्रयोग हमने कुछ लोगों  पर देखा है जो आज सफल हैं। आपको भी पूरी सफलता मिले हमारी शुभकामना है। आवश्यक होने पर हमारे नम्बर पर किसी भी प्रकार की जानकारी ले सकते हैं। 
                                          हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 

                 अशोक भैया   +91- 9565120423 विश्वशांति रास्ट्रएकता)

Friday, 21 December 2012

दूसरों के मन में की बात जानें

                     
   दूसरों के मन की बात कैसे जानें ?

          किसी के मन में क्या है, सामने वाला क्या सोंच रहा है। अच्छा सोंच रहा है या गलत सोंच रहा है? इसकी जानकारी हमें होनी चाहिए। यदि ऐसा होता है तो अपनी रक्षा के लिए पहले से हम  सावधान हो सकते हैं। आगे के कार्यों के लिए सही कदम उठा सकते हैं और  ऐसा ज्ञान, ऐसी जानकारी हम प्राप्त कर सकते हैं। किसी के भी मन को आप टटोल सकते हैं। उसके मन को संचालित कर सकते हैं अपने रिमोट पर।
        
           सी ज्ञान जानकारी की उपलब्धि के लिए शास्त्रों  में अनेक विधियाँ है। जिसमे योग, त्राटक, तंत्र, मंत्र, इत्यादि। इसी में टेलीपैथी एक  विधि है जिसके द्वारा हम ऐसी उपलब्धि हासिल कर सकते हैं। टेलीपैथी एक  ऐसी  साधना या प्रयोग विधि है जिसका अभ्यास कर मेधावी ओर त्रिकालदर्शी तक बना जा सकता है। इसके द्वारा नजदीक या दूर दराज बैठे  व्यक्ति के मन मैं क्या चल रहा है जान  सकते हैं। 
           
          बड़ा ही दिलचस्प विषय है इसके द्वारा लोगों के मन में  झांक सकते हैं। दूसरों के मन की बात जान  लेने के लिए मंत्र विधि भी है, तंत्र विधि भी है जो कुछ जटिल माना  जाता है। किन्तु आज के वैज्ञानिक युग में एक  ऐसी प्रेक्टिकल अभ्यास विधि है जो कुछ विशेष सामग्रियों  के माध्यम से संपन्न की जाती है। और  इसमें पूरी सफलता भी मिल जाती है। हमारे विचार से यह विधि सभी के लिए सहज है।   क्योंकि इसका नियम पूर्वक अभ्यास कर पहले अपने खुद के मन को कंट्रोल में  किया जाता है। उसके बाद तो दूसरे  के मन को कंट्रोल आसानी से किया ही जा सकता है। 
           
        मन एक  चंचल तत्व  है  इसे स्थिर रहना आवश्यक है। स्थिर रहेगा तभी हम इच्छा शक्ति के माध्यम से किसी के भी मन को  हस्तक्षेप कर सकते हैं। अभ्यास के बाद आप साधारण नहीं रह जाते, आपके अन्दर असाधारण चुम्बकीय तरंगे  तैरने लग जाती है कि,  जिधर भी नजर जाए उधर की पूरी स्थिति स्पष्ट  समझ में आ जाए। कोई आपको देख रहा है तो वह बोले न बोले, आप समझ जाते है कि,  वह क्या सोंच रहा है। कैसी भावना से आपको  देख रहा है। अतः सही अभ्यास से किसी भी प्राणी को दास या दासी बनाया जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं। 
            
        किसी के भी मन की बात  उगलवाया जा सकता है। रहस्य की बातें पूछी जा सकती है। उसे सही मार्गदर्शन दिया जा सकता है। उसकी गलत आदतों को सुधारा  जा सकता है। अर्थात सामने वाले से अपनी बात मनवाई जा सकती है। ऐसा होना या करना किसी भी प्रकार से असामाजिक नहीं है। क्योंकि ऐसी शक्ति और  पावर तो प्रकृति ने पहले से मनुष्य को दे रखी है, जो अज्ञानता के कारण कोई इस्तेमाल नहीं कर पाता। इसके विस्तार की व्यवस्था आपने ही ख़राब कर दिया है। आप भूल चुके है कि, ऐसा भी हो सकता है। किन्तु ये सत्य है कि , ऐसा होता आया है और  ऐसा निश्चित हो सकता है। 
           
       जिस प्रकार अस्त्र शस्त्रों पर भी धार लगाते रहने की जरुरत होती है, उसी प्रकार अपने अन्दर की साधारण उर्जा तरंगों को भी अभ्यासों के द्वारा पावरफूल  बनाया जाता है और यह एकाग्रता पूर्ण  अभ्यास से ही संभव होता है। जब आप अभ्यास शुरू  करते है तो कुछ खाश-खाश बातों पर ध्यान रखते हुए उसे जारी  रखना होता है। अर्थात अभ्यासकाल के दौरान विचारों में, बातों, में, व्यवहार में, वस्त्रों  में, खान-पान में, सादगी रखनी होती है। यह ध्यान रखते हैं तो आपके अभ्यास में सुगमता आती है। आप जल्दी पारंगत होते हैं। यह एक प्रेक्टिकल विज्ञानं है, जिसमें संदेह की कोई गुन्जाईस नहीं। मात्र 33 दिन में आप इसी अभ्यास की बदौलत  साधारण व्यक्ति से व्यक्तित्व  बन चुके होते हैं। 

अभ्यास  सामग्री -

1-      क्रिस्टल बाल। 
2-      शक्ति चक्र। 
3-      मनोकामना यन्त्र।
4-      इक्चापुर्ती कवच। 

          इन चार शुद्ध और सिद्ध सामग्रियों  के द्वारा दुनिया का कोई भी पुरुष/स्त्री,  युवक/युवती इसका नियम पूर्वक अभ्यास कर दूसरों के मन की बातें आसानी से जान सकते हैं और  दूसरों के मन को अपने हिसाब से संचालित भी कर सकते है। मन को अपने कंट्रोल में करने की यह विधि सर्वथा गोपनीय किन्तु सहज है। इस सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी के लिए हमें फोन करके प्राप्त कर सकते हैं।     
                                                       हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 
                                                                               अशोक भैया     +91 9565120423

Thursday, 13 December 2012

विवाह वाधा दूर करें

         
            विवाह की वाधाएँ दूर करें 
   
          बहुतेरे परिवार में  शिकायतें मिलती है कि, बेटे की शादी तय होते होते रह गई। बेटी के लिए बात पक्की हो गई थी, लेकिन अचानक इंकार कर गए लोग। ऐसे वाधा  रुकावटों में कहीं मंगला-मंगली का दोष, तो कहीं कालसर्प का दोष और कहीं कुंडली का न मिलने का दोष। विवाह के लिए ऐसी तमाम तरह की घटनाएं रुकावटें देखने सुनने को मिलती रहती है। 
          
          और वैवाहिक वाधा  रूकावट का यह विषय किसी भी घर परिवार में तनाव का कारण  बन जाता है। हालाँकि मेरे अनुभव से मैंने कई बार वास्तु दोष को कारण  मानते हुए उपाय कई लोगों  को बताया तो लाभ भी जरुर देखा गया। क्योंकि  भूमि दोष और वास्तु दोष का असर निश्चित नकारात्मक होता है। वास्तु दोष के कारण  घर के सभी सदस्यों को अपने मामले में बेवजह वाधा , रूकावट, नुकसान  या असफलता मिलता रहता है। इसके लिए वास्तु विशेषज्ञ से मिलकर परामर्श जरुर लेनी चाहिए। 
           
            यह विचार कई तरह से फायदेमंद रहता है। क्योंकि यह वास्तु सम्मत है कि, विवाह योग्य लड़का या लड़की यदि घर या कमरे के वायव्य दिशा (उo पo दिशा) में शयन करता है तो उसका विवाह शीघ्र होना तय है। किन्तु इसमें वाधा  रुकावटों के और भी कारण  हो सकते हैं। जैसे ईशान अर्थात पूर्व उत्तर दिशा में शौचालय का होना,  भूमि के मध्य में कुंवा या किसी तरह का बोरिंग होना आदि। जो भी हो, किन्तु वास्तु दोष का ख़त्म होना आवश्यक  है। यथा शीघ्र वास्तु सलाहकार से मिलकर दोष का उपाय करना चाहिए। आइए वैवाहिक वाधा  से मुक्ति और इसमें शीघ्र सफलता के लिए कुछ सटीक उपाय की करते हैं। यह वास्तु के भी अनुकूल है। 
        
 1- आपके यहाँ पूरब उत्तर दिशा में यदि पूजा रूम  या पूजा स्थान  है तो सही है। यहाँ विवाह योग्य पुत्र या पुत्री  को कुल 43 दिन तक एक  पूजा प्रक्रिया करनी होगी जिससे दोष ख़त्म हो। यानि सूर्यास्त के बाद पूजा स्थान  पर एक  प्लेट रखें। उसमें फूल  की पंखुरिया बिखेरें। उसके ऊपर उल्टा करके गिलास रखें ताकि फूल  उसके अन्दर आ जाए। गिलास के ऊपर शुद्ध घी का दीपक जलाएं। ऐसा रोज 43 दिन करना है। और यह कार्य गुरुवार के दिन से आरम्भ करना है। 
        
  2- गुरुवार  के ही दिन सूर्यास्त के बाद पुत्र या पुत्री  एक बाल्टी पानी लेकर उसमें एक संतरा और आधी  चमच हल्दी का पाउडर डालकर पानी रातभर वैसे  ही रहने दे। प्रातः सूर्य उगने से पहले उस पानी से स्नान कर ले और संतरा किसी मंदिर में रख दें या नदी में बहा दें। 
       
3- अपने घर के पूजा स्थान में सिद्ध, प्राण प्रतिष्ठित वास्तु यन्त्र; विवाह यन्त्र  और शुद्ध पारे  का शिवलिंग सोमवार के दिन स्थापित कर कामना करें। 
      
 4- छः रत्ती का पुखराज या टोपाज गुरुवार के दिन सिद्ध कराकर पुत्री  बाएँ हाथ की तर्जनी में पहने या पुत्र  दाएं हाथ  की तर्जनी में पहनें। 
     
 5- एक छोटे से भोजपत्र के टुकड़े पर केसर से शीघ्र विवाह कामना लिखें और उसे लपेटकर शहद की सीसी में बंदकर कहीं रख दें। कामना पूरी होने पर सीसी बहती नदी में डालकर बिना पीछे देखे घर चले आएं। 
    
 6- सूर्योदय के समय अपने मकान  के उत्तर पश्चिम वाले कमरे या स्थान  पर पूरब की ओर मुंह करके बैठ जाएँ और  सूर्य की लालिमा स्मरण करते हुए विवाह की कामना पूरी श्रद्धा और इच्छाशक्ति के साथ  11 बार दुहराएं तो विवाह वाधा  निश्चित ही समाप्त होता है। 
       
          ये सारे  उपाय मैंने  प्रयोग कराएं है। इसका परिणाम निकलने में  90 दिन काफी होता है। इन सभी उपायों को संपन्न करें, निश्चित ही आपको सफलता मिलेगी हमारी मंगल कामना है। आप  तनावमुक्त हों और वैवाहिक समस्या ख़त्म होकर सुख सम्रद्धि की प्राप्ति हो। इस सम्बन्ध में किसी प्रकार की उत्सुकता मन में आए तो हमारे नंबर पर फोन करके निःसंकोच पूछ लें, आपको संतोषजनक उत्तर मिलेगा। 
                                                                           हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 
                                                                                           अशोक भैया +91 - 9565120423
                                                         
                                                                                            (विश्व शांति राष्ट्र एकता ) 

सम्मोहन तिलक

            सम्मोहन तिलक 

            (पत्थर दिल भी मोम बन जाए) 

          प्राचीन शास्त्र ग्रंथो में  किसी को भी सम्मोहित करने या उसे अपने वश में करने के अनेकों उपाय उपलब्ध हैं जिससे पत्थर दिल वाले भी सहजता से सम्मोहित होकर आपके इच्छाओं के अनुकूल संचालित रहते हैं। आप जिस तरह से चाहते हैं, जैसी इच्छा बनाते हैं सामने या दूर बैठा पुरुष या स्त्री आपके इच्छा का पालन करना ही अपना धर्म मानने लगता हैं। 
          
        क्योंकि सम्मोहन  किसी के भी मन को मोह लेने की वैज्ञानिक क्रिया है l यह कोई जादू, मंत्र, टोना, टोटका नहीं है। यह शुद्ध रूप से शरीर और मन का विज्ञान है जिसे ऋषि मुनियों ने भी प्रयोग किया और प्रबुद्ध लोगों और वैज्ञानिकों ने भी। इसके लिए अनेकों विधि है। किन्तु हम यहाँ सहज प्रयोग के रूप कुछ ऐसे बिंदी या तिलक धारण विधि को बताएँगे जिसका परिणाम देखकर आप चकित रह जाएँगे। यानी  मस्तक पर कुछ ऐसे तिलक, बिंदी या टिक्का लगाने का प्रयोग जिसका प्रभाव सामने वाले नर-नारी को अपने सम्मोहन मैं आसानी से बांध लेता है।
          
          इस विधि का प्रयोग  करके आप जिसके भी सामने जाएँगे या सामने से गुजरेंगे वह आपसे आकर्षित हुए बिना नहीं रहेगा। जब बात करेंगे तो आपकी बातें, विचार उसे बहुत पसंद  आएगा।  आप जो भी कहेंगे उसका मन उसे स्वीकार करता जाएगा। आपके लिए भविष्य मैं वह निश्छल रूप से मैत्री  व्यवहार  करेगा। चाहें कोई अधिकारी हो, कर्मचारी हो, प्रेमी हो, प्रेमिका हो, नौकर हो, मालिक हो, दुकानदार हो, कोई भी हो, पूरी दुनिया के लोगों  के लिए इसका प्रभाव बराबर लागू  होता है। क्योंकि हर व्यक्ति के शरीर का सर्वाधिक लौह तत्व  मष्तिस्क के बीच  होता है जहाँ बिंदी या तिलक लगाई  जाती है। इसे आज्ञा  चक्र या गुरु चक्र भी कहते हैं। 
         
          आमतौर  पर जब 2 व्यक्ति आमने सामने मिलते हैं तो एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति  पर निश्चित ही हाबी हो जाता  है, कारण कि, उस समय किसी एक का लौह तत्व यानी मैग्नेटिक तरंग, जिसे चुम्बकीय तरंग भी कहते हैं वह  पावर में होती है। इस कारण मुलाकात सामान्यतः औपचारिक  हो जाती  है। किन्तु एक व्यक्ति अपने आज्ञाचक्र पर बिंदी या तिलक लगाकर बात करे तो दूसरे वाले पर भारी पड़  जाता है। क्योंकि एक की चुम्बकीय तरंग दूसरे से शक्तिशाली होती है और कमजोर तरंग वाला सम्मोहित हो जाता है। 
          
          अर्थात मस्तक पर आज्ञा चक्र का बहुत ही महत्व है। यह गोपनीय विधि है जिसे सार्वजनिक किया  जा रहा है। मस्तक पर अपने आज्ञा चक्र पर लगाने के लिए दी जा रही  कुछ सामग्रियों का प्रबंध  करके बिंदी या तिलक लगाए फिर देखें दुनिया किस कदर लट्टू हो जाती है और  आपका काम बनने  लगता है। जिससे भी मिलने जाना हो ये तिलक लगाकर सामने जाएँ। किसी के विवाह में वाधा  रूकावट हो तो युवक या युवती को दिखावा के वक्त ऐसा बिंदी या तिलक लगादें सफलता मिलेगी। अधिकारी से कोई कार्य हो तो  काम बन जाएगा। दुकान  पर ग्राहक आएँगे।  दुश्मन,  दुश्मनी भूल जाएगा। क्योंकि इसका असर महिला या पुरुष सभी पर बराबर  होता है। 
         
        कोई आपसे नाराज चल रहा है तो फिक्र न करें, उसका नाम उच्चारण करके बिंदी / तिलक लगाकर सामने जाएँ तुरंत  परिवर्तन दिखेगा। दुनिया की कोई भी वस्तु बेकार या फालतू नहीं होती। ज्ञान हो तो एक तिनका भी अपना बेशकीमत मूल्य रखता है। प्राचीन सामग्रियों का महत्व आज भी तरोताजा है। चुकि  आधुनिकता की चपेट मैं हम प्राचीन शास्त्र सामग्रियों को भुलते  चले जा रहे  हैं, परन्तु आज भी इनमें राम बाण असर है। चुनौतीपूर्ण पावर  है जो काफी सहजता से आपकी समस्या समाधान करते हुए आपको एक  सम्मोहक व्यक्तित्व के रूप में प्रस्तुत करती है। अतः नीचे  3 प्रकार के बिंदी या तिलक प्रयोग करने की आसान विधि दी जा रही है, आपको इसका शत - प्रतिशत लाभ मिलेगा। 

विधि -

1- तुलसी का बीज, रोली और काली  हल्दी को आंवले के रस में मिलाकर गोल बिंदी या गोल/लम्बा तिलक लगाकर घर से निकलें। किसी से भी मिलना हो आराम से बात करें। वह व्यक्ति आपके सम्मोहन बंधकर जवाब देगा, जो आपके हक़ मैं सकारात्मक होगा । 

विधि -

2-  गुरुवार  के दिन हरताल और असगंध को केले के रस में पीसकर उसमें गोरोचन मिलाएं  और बिंदी या तिलक करें। समान लाभ होगा।

विधि - 

3- गुरुवार के दिन ही काली  हल्दी, रोली, असगंध  और चन्दन को आंवले के रस में मिलाकर  तिलक या बिंदी करें। समान लाभ मिलेगा। 
          
         प्रस्तुत तीनों प्रयोग अनेकों लोगों पर आजमाया हुआ है। आप अपने शहर  के किसी व्यक्ति या दुकानदार  से सामग्रियों की व्यवस्थl कर विधि के अनुसार प्रयोग करें। जो भी आपसे नजर मिलाएगा वो ठगा सा रह जाएगा। क्योंकि देखने वाले की मैग्नेटिक तरंग कमजोर होती है और उसपर आपके बिंदी तिलक का जबरदस्त  असर जो होता है । किन्तु हाँ, आप अपने अन्दर की नकारात्मक सोंच ख़त्म कर दें तो यह प्रयोग बिजली की तरह काम करता दिखेगा। आप अभी से सकारात्मक सोंच की आदत डालिए ये आपको और भी मामलों में कामयाबी  दिलाएगा। 

नोट - उपरोक्त सामग्री उपलब्ध न कर पायें तो संस्थान से प्राप्त कर लें। कोरियर डाक से भेजने का प्रबंध है। 

विशेष - यदि आप ऐसे प्रयोग में  रूचि रखतें हैं  तो कहीं से सिद्ध क़िया  हुआ वशीकरण यन्त्र प्राप्त करें। जब भी किसी महत्वपूर्ण मुलाकात करने जाना हो तो वशीकरण यन्त्र के सामने 21 बार  व्यक्ति  का नाम और इच्छा दुहराकर तिलक लगाएं  और घर से निकलें। आप खुद इसके प्रभाव और अप्रत्याशित लाभ से दंग  रह जाएँगे। अतः आप बिना संदेह विधि का प्रयोग करें। इस सम्बन्ध में कोई भी अन्य जानकारी लेनी हो तो सीधे  फोन करके पूछ लें। हमारा सहयोग आपको निश्चित मिलेगा।  
                                                            हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 

                                                            अशोक भैया  +91 9565120423             धन्यवाद ! 

Tuesday, 11 December 2012

शराब छोड़ने का तरीका

             

        शराब छोड़ने का तरीका 
       

           यदि आपके घर में या आस-पड़ोस में किसी को शराब की लत लग गई हो तो घबराने की या चिंता करने की बात नहीं हैl  रोज सुबह शाम एक सेब को पानी में उबालें और उसे उस व्यक्ति को खिलाएं। ऐसा एक महीना लगातार करें l आप देखेंगे उस व्यक्ति की इच्छा शक्ति शराब की ओर से कम होती जा रहा है l 

            यह आजमाया हुआ सही नुस्खा है l मात्र एक महीने में व्यक्ति अपने आपको इतने सुधार में पाएगा की हैरत वाली बात दिखने लगेगी l इसलिए आप निश्चिंत होकर यह तरकीब अपनाएं पूरी सफलता मिलेगी l आप कुछ और बातों पर ध्यान देंगे। ऐसे आदमी को कभी भी डाट - फटकार न लगाएं l इनसे  सहज रूप से ही बात करें l किन्तु पीने  की बात को शिकायत के तौर पर जरुर महसूस कराएं l 

            इसी में कुछ और तरीके हैं जिन्हें अजमाया जाना चाहिए l रात में सोने के बाद ऐसे व्यक्ति के कमरे में कपूर जलाएं ताकि उसका धुवाँ चारो तरफ फ़ैलता रहे l  ऐसे व्यक्ति को हमेशा जायफल ओर लवंग चूसने की आदत डालनी चाहिए l इससे एक और फायदा होता है की मुंह की बदबू और बीमारी ख़त्म होकर व्यक्तित्व शानदार बनने लगता है l उस आदमी की हर तरफ पूछ-ताछ होने लगती है l समाज से इज्जत मिलने लगती है l और देखते ही देखते खुद वह नशे  का लत वाला व्यक्ति एक सामाजिक इन्सान बनकर परिवार और समाज के साथ मिलकर जिंदगी को बनाता चला जाता है l 

          ये हमने कोई कहानी या ड्रामा नहीं लिखा है, ये प्रेक्टिकल बातें हैंl ये बहुतों पर आजमाया हुआ  है l आप  निश्चिंत होकर ऐसा प्रयोग करें कराएं, शत - प्रतिशत लाभ मिलेगाl यदि  इस विषय में हमसे कुछ जानना पूछना हो तो बेहिचक फोन करके पूछ  सकते हैं l

                                               मो0 न0  0-9565120423 अशोक भैया,   ऋषिकेश   

Monday, 3 December 2012

सम्मोहन शक्ति

              

             सम्मोहन शक्ति 
              
                 (सूर्य विज्ञान) 
           
           जब हम खुली आँख से सामने हवा में देखते हैं तो एक काली सी तील लहराती हुई दिखती है। आप उस चंचल काली तील को स्पष्ट देखना चाहे तो कभी नहीं देख सकते और इसी कारण हमारी आँखों का निशाना प्रभावहीन बना रहता है। हम जो भी इच्छा बनाकर सामने देखते हैं तो उसमें कोई दम नहीं रहता, जबकि होना यह चाहिए कि आप जहाँ देखें आपके विचारों के मुताबिक परिणाम निकला करे।

          सम्मोहन आज के भौतिक युग में एक क्रांतिकारी विज्ञान है। इसके दवारा साधारण से लेकर अजीबो गरीब सैकड़ों कार्य किया जा सकता है। मानव प्राणी के अन्दर से हर समय सम्मोहन की तरंगें प्रवाहित होती रहती है। ये तरंगें नेत्र और हाथ की उंगुलियों से अदृश्य रूप में निकलकर ब्रह्माण्ड की इथर तरंगों में मिलते हुए विश्व व्यापक बनी रहती है। इसका उदाहरण है- आप अपने घर में बैठे बैठे दिल्ली या मुम्बई स्थित अपने किसी  मित्र या रिश्तेदार को याद करते हुए विचार बनाते हैं कि, क्या बात है, आज कल कोई खबर नहीं मिल रहा है उसका ?,  तब कुछ ही मिनट बाद आपका मोबाईल बज उठता है कि, हैलो. मैं फलाना बोल रहा हूँ, फलाने शहर से। खाली बैठा था तो सोंचा बात कर लूँ।

          अक्सर ऐसी घटनाओं को संयोग मान लिया जाता है। लेकिन यह संयोग बिलकुल नहीं है। यह आपके शरीर का शुद्ध विज्ञान है, साइंस है। इसे तरंग विज्ञान, एयर साइंस  कह सकते हैं। क्योंकि आपने मित्र को सोंचते हुए इच्छा बनाया, आपकी इच्छा में प्रबलता थी, यह इच्छा तरंग ब्रह्माण्ड के तरंग के जरिए मित्र की तरंगों से टकराई और तब मित्र न चाहते हुए भी आपको फोन कर डाला। इससे स्पष्ट हो रहा है कि किसी भी व्यक्ति को कहीं भी और कभी भी इच्छानुसार विचार भेजा जा सकता है। प्राचीन समय में भारतीय ऋषि मुनि ऐसे कार्य आसानी से संपन्न कर लेते थे। इसे टेलीपैथी ज्ञान भी कहते हैं। इसमें किसी प्रकार का कोई चमत्कार नहीं है। हमने देखा है कई बार लोग सम्मोहन के अधकचरे ज्ञान के चलते अपनी आँखें तक ख़राब कर लेते हैं।

           सूर्य आपार शक्तियोँ के मालिक हैं। अपनी आँखों में सम्मोहन की बिजली भरने के लिए सूर्य त्राटक आवश्यक है, किन्तु इसका अभ्यास सही मार्गदर्शन में नहीं किया गया तो आँखें चौपट भी हो सकती है। बिना सही ज्ञान अथवा बिना मार्गदर्शक सूर्य त्राटक करना उचित विचार नहीं है. त्राटक का अर्थ है, किसी एक बिंदु पर एक टक लगातार देखते रहना। दुनिया भर के वैज्ञानिक कहते हैं कि, उगते सूर्य की लालिमा लगातार देखने से आँखें स्वस्थ रहती है और चुम्बकीय उर्जा मिलती है। इसीलिए हमारी सलाह है, सूर्य त्राटक उगते सूर्य की लालिमा से ही  आरम्भ करना उचित है। धीरे-धीरे अभ्यास को बढ़ाते रहने से सफलता मिलती जाती है। यदि अपने शरीर के साधारण तरंगों को असाधारण बना लेते हैं तो आप दुनिया के किसी भी स्त्री पुरुष को सेकेंडों में सम्मोहित कर सकते हैं। 
               
          अपनी आँखों में सूर्य की शक्ति, सूर्य की लपक भरकर सम्मोहक और प्रभावशाली बनना चाहते हैं तो इसके लिए संस्थान द्वारा अभ्यास पैकेट तैयार किया गया है जिसे पूर्ण दिशा निर्देश सहित आपके नाम पते पर भेजने की व्यवस्था है। पैकेट में सम्मोहन अभ्यास से सम्बंधित  अति दुर्लभ सामग्रियां है, जिसके दवारा आप सहज सुगम विधि से सफलता की ओर बढ़ते ही चले जाएंगे।
         
         अतः सम्मोहन विज्ञान हर कोई समझे और लाभ उठाए।
शक्ति चक्र, क्रिस्टल बाल, हिप्नोलाइट यन्त्र, मनोकामना यन्त्र, वशीकरण यन्त्र तथा उपहार स्वरूप गले में धारण के लिए सम्मोहन उर्जा कवच ताकि अभ्यास के दौरान आप सुरक्षित रहें, वैसे भी सम्मोहन शास्त्र कोई जादू या तंत्र मंत्र नहीं बल्कि यह शुद्ध तौर पर शरीर और मन का विज्ञान है। 
                                   हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 
              (हमारा व्यक्तिगत सलाह और सहयोग आपको निरंतर प्राप्त होने जा रहा है। )

                                                                                            Dhanyavad      
                                                          Ashok Bhaiya   0-9565120423

Sunday, 2 December 2012

सुख शांति समृद्धि पायें - वास्तु दोष मुक्ति करके




     वास्तु दोष का पोस्टमार्टम 
          

          आपकी जमीन, मकान, दूकान, ऑफिस, कार्यालय का भाग्य पलट सकता है। यदि वास्तु दोष के कारण आप कष्ट में हैं, धन का अभाव हो गया है, धंधा पानी घाटे में चल रहा हो, किसी की बुरी नजर लग गयी हो, दुष्ट आत्माओं की छाया पड़ गयी हो, बिमारियों का आना जाना लगा हो, रुकावटें और वाधाएं आ रही हो तो अब घबराने या चिंता करने की जरुरत नहीं है। 
             
          आज का साइंस काफी आगे बढ़ चुका है। वास्तु विज्ञान फेंगसुई की प्रभावशाली सुझाव से आप सौभाग्य की प्राप्ति कर सकते हैं। वास्तु विज्ञान के अनुसार कोई भी मकान इस तरह से निर्माण कराया जाता है ताकि उसका मुख्य द्वार, खिड़की, आँगन, पूजा घर, रसोई घर, शौचालय आदि उचित दिशा में हो। किन्तु यही सब विपरीत या उल्टा पुल्टा निर्माण होता है तो अनिश्चित काल तक दुर्भाग्य का सामना करते ही रहना पड़ता है। वास्तु दोष दूर करने के आज दो उपाय है। एक- तोड़- फोड़ करके या बिना तोड़ फोड़ किए। 
            
            आज चीन के लोग चतुर, बुद्धिमान, सुखी और समृद्धशाली हैं। क्योंकि वहां 100 के 100 प्रतिशत लोग वास्तु विज्ञान को आंतरिक श्रद्धा से मानते हैं। आप अपने घर परिवार या दुकान फैक्ट्री से खिन्न हैं तो इसे दुर्भाग्य न माने, यह प्राकृतिक स्वभाव है। आप फोन के जरिए हमसे वास्तु सलाह लेकर वास्तु समस्याएँ दूर करने की सोंचे। हमारी सलाह आपके लिए अचूक बने, यही कामना है। आप सर्विस में हैं तो उन्नति करेंगे। व्यावसायिक हैं तो व्यवसाय चल निकलेगा। कर्ज से मुक्ति मिलेगी। कोर्ट कचहरी मुकदमे में विजय की प्राप्ति होगी। सभी प्रकार की कार्य वाधाएं दूर होकर सफलताएं बहाने बनकर आना शुरू कर देगी। 
            
            जहाँ समस्याएँ हैं वही समाधान भी है। यही बैलेंस भी है दुनिया और जीवन का। आप अपने या परिवार की व्यक्तिगत समस्याओं के भी समाधान ले सकते हैं। हमारी कोशिश होती है निश्चित समाधान हो। यही मेरी प्रसिद्धि भी है। और मैं एक बार फिर वास्तु दोष मुक्ति के सम्बन्ध में प्रामाणिक सलाह दे रहा हूँ। इस पर गौर करें। किसी भी मकान में वास्तु दोष का होना अशुभ है। वास्तु दोष निरिक्षण की बात आती है तो लाखों करोणों का मकान खँडहर की शक्ल में दिखने लगता है। लेकिन जब बिना तोड़-फोड़ किए दोष दूर करने के उपाय की सलाह दी जाती है तो लोग सौभाग्य की बात मानने लगे हैं। 
            
            क्योंकि लाखों करोणों के मकान ऑफिस या स्थान को तोड़ने फोड़ने की जरुरत नहीं है बल्कि दोष दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण उपाय कर देना आपका सटीक प्रयास बन जाएगा। ये वास्तु सामग्रियां साधारण नहीं बल्कि पूरे विधि विधान से ग्रहण काल में गृह स्वामी के नाम से सिद्ध की गई होनी चाहिए। तब इसे स्थापित करने के बाद परिणाम हैरतपूर्ण ही होता है। अर्थात हफ्ता दस दिन या महीने भर में सुख शांति समृद्धि सहित तरक्की के कई सुखद परिणाम सभी के सामने होता है। कारण कि, सामग्रियों के स्थापना के बाद 60 से 70 प्रतिशत वास्तु दोष स्वयं समाप्त होने लगते हैं। 

             जबकि समूचा मकान भी तोड़वाकर बनवाया जाय तो 90 प्रतिशत ही दोष को दूर रखा जा सकता है। अतः हमारी सलाह से बिना तोड़-फोड़ किए ऐसे सिद्ध वास्तु सामग्रियां स्थापित करें। निश्चित ही वहां की नकारात्मक दोष ख़त्म होकर सकारात्मक स्थिति में आ जाती है। आपके घर परिवार में बहार आ जाती है। लक्ष्मी और कुबेर का आशीर्वाद प्राप्त होने लगता है। हमारे इस सलाह को आजमाएं नहीं बल्कि सामग्री पैकेट प्राप्तकर निर्देशानुसार स्थापित कर दें और आश्चर्यजनक परिणाम अपनी आँखों से देखें। 

 नोट -     यदि नया मकान बनवाने जा रहे हैं तो आपके लिए यह और सौभाग्य की बात है। सिर्फ नीँव सामग्री पैकेट मंगवाकर भूमि के पूर्व उत्तर कोने की दिशा में एक फिट गड्ढा खोदकर सामग्रियां उस नींव में डाल दें। इससे भूमि दोष भी ख़त्म होता है और यह वास्तु दोष ख़त्म करने में भी सक्रियता से काम करता है। नींव सामग्री पैकेट में नव प्रकार की दुर्लभ वस्तुएं होती हैं जैसे- श्री यन्त्र, वास्तु यन्त्र, लक्की कौड़ी, गोमती चक्र, स्टोन हकीक, नाग नागिन, एकाक्षी नारियल। पिरामिड और लामा यन्त्र। यह पैकेट भी गृह स्वामी के नाम से पूजन सिद्धि करके ही प्रेषित की जाएगी। 
                                                      हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 
 किसी भी जानकारी अथवा सलाह के लिए फोन कर लें।                Dhanyavad.  
                                                                                          
         Ashok Bhaiya        9565120423          दिल्ली, ऋषिकेश, मऊ, बलिया 

Saturday, 1 December 2012

कुंडलिनी जागरण संभव है

               

            दुनिया को मुटठी में करें 
          
      
          यदि आप मुझे पहले से जानते हैं तो भूल जाइए। नए सिरे से मिलने का प्रोग्राम बनाइए। नहीं भूलना चाहते हैं तो जिद्दी न बनिए, बल्कि थोड़ी प्रतिक्षा करिए। फिलहाल अपनी परेशानी और समस्याओं का हमसे चीर  फाड़ करवाते रहिए ताकि जीवन सहज और खूबसूरत बन सके। यह कार्य विश्व में शांति और राष्ट्र में एकता कायम करने के लिए वजनदार होगा। क्योंकि अब मैं आपको ले चलूँगा सम्मोहन शास्त्र की पोजेटिव दुनिया में जहाँ सब कुछ संभव होता है।  
          
          कुंडलिनी इसी का एक अहम् पार्ट है। कुछ ऐसा कि सोंचते ही अन्दर के सभी चक्र आपस में फुसफुसाने लगते हैं। विषय से भटकाने भी लगते हैं ताकि आप कुंडलिनी चक्र का ध्यान न करके अन्य व्यर्थ विषयों में लगे जायं। बेशक यही होता भी है, क्योंकि कुंडलिनी जागरण एक ऐसा दिलचस्प विषय है जिससे आत्मविश्वास और इच्छा शक्ति का विशाल पावर मिल जाता है। कोई भी पुरुष या स्त्री कुंडलिनी जागरण का ज्ञान प्राप्त कर हैरत अंगेज जीवन हासिल कर सकता है। 
         
          हम सबकी खुली आँखों  के सामने एक काली तील इधर उधर भागती दिखाई देती है इस तील को कुछ  विशेष योग प्राणायाम से एक जगह पर कंट्रोल करते हुए स्थिर किया जाता है।  अगर आप ऐसा कुछ कर लेते हैं तो समझिए, आप सम्मोहन वशीकरण के मास्टर हैं। यानी पत्थर से पत्थर दिल को भी मोम बना लेने का पावर है आपके अन्दर। किसी भी बिमारी का इलाज दृष्टि स्पर्श से ही कर सकते हैं। हिंसक पशु पक्षियों को पालतू बना सकते हैं। दूसरों के मन की बात बिना बताएं जान सकते हैं। असंभव से असंभव कार्य आसानी से संपन्न कर सकते हैं। क्योंकि जिधर भी अपनी नजर दौड़ाएंगे उधर हाई पावर का चुम्बकीय तरंग फैलता रहेगा जो आपके इच्छा और विचारों के अनुसार कार्यशील बना रहता है। 
            
          इसीलिए मैं बार बार कहता हूँ कि, पीछे मुड़ मुड़ के न देखिए। बल्कि कुछ ऐसा करिए ताकि ज़माना आपको मुड़ मुड़ कर देखा करे। ऐसा हो गया तो यह आपके जीवन की महान उपलब्धि होगी। आज मैं आपके सामने हूँ, फिर दुहरा रहा हूँ अपनी बातें, जब दुनिया विरान लगे और जीवन में कुछ कर गुजरने का ख़याल आए तो मैं आपके साथ हूँ। मेरा सहयोग बार-बार मिलेगा। अद्भुत ज्ञान का प्रेक्टिकल उपहार भी मिलेगा। क्योंकि मेरी जिंदगी में बहुतेरे लोग मिले, लेकिन भरोसेमंद कोई नहीं। हो सकता है उनकी नजर में मैं भी उसी तरह का होऊ ?  फिर भी इसमे सर पीटने की क्या बात है। 
            
           आप अपना एक  सिधांत बनाइए। उस सिधांत पर बेधड़क चलते चले जाइए। किसी से सहयोग की भीख मांगने की गलती भी न करिए। क्योंकि जिससे भी मांगेंगे वो खुद अपने भिखारी होने का लाइसेंस सामने रख देगा। मैं आपको धनप्राप्ति के कुछ प्रभावशाली उपाय बता रहा हूँ, इन्हें आजमाइएगा। पहला- किसी भी शुक्रवार की सुबह, एक या दो पीस लाल कमल का फूल लाएं, उसे नहलाकर धूप बत्ती दिखाएं, फिर उसे लाल वस्त्र में करके तिजोरी या जेब पर्स में रखें। इससे धन आगमन के नए श्रोत बनते हैं। दूसरा- किसी भी धार्मिक स्थान की जमीन पर गिरे सिक्के या रूपए सम्मान पूर्वक उठाकर रख लें। यह आपके धन को बढ़ाने में कामयाबी देगा। 

          धनआगमन, लक्ष्मी प्राप्ति के लिए तो बहुत सारे उपाय है  परेशान होने की जरुरत नहीं है। दुनिया को कैसे वश में किया जाय यह सोंचना है। और किसी को भी सम्मोहित या वश में करने का मूल मंत्र होता है, पहले अपने मन पर नियंत्रण स्थापित कर लेना। वैसे सम्मोहन का एक टिप्स है। 1- काली हल्दी और रोली को आंवले के रस में मिलाकर तिलक या बिंदी लगाएं तो मिलने वाले सम्मोहित हो जाते हैं। इसका भरपूर लाभ राजनीति से जुड़े लोग भी उठा सकते हैं। क्योंकि जन समूह पर यह और जबरजस्त काम करता है। 
            
          कला लाइन या फिल्म टी वी से जुड़े कलाकार या स्टार तुरंत बेशुमार सफलता के लिए स्फटिक माला में त्रिशक्ति कवच गले में पहने या पास रखें तो तीन घंटे में आश्चर्यजनक लाभ देख सकते हैं। यदि किसी अफसर या अधिकारी से मिलने जाना हो तो मिलते समय उनके तिलक लगाने वाले स्थान पर दृष्टि जमाते हुए अपनी बात कहें। बिना टाल मटोल के काम बन जाएगा। इस प्रकार के बहुतेरे उपाय है जिसका प्रयोग करके दुनिया को मुट्ठी में किया जा सकता है। आप संपर्क बनाए रखे। अपनी समस्या बताएं।        
                                                             हमारा जीमेल एड्रेस ashokbhaiya666@gmail.com
(अपना नाम पता हमारे फोन नंबर पर SMS मैसेज कर दें ताकि समय समय पर  आवश्यक जानकारी दी जा सके तथा फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए अपना फेसबुक खोले और सर्च बॉक्स में Ashok Bhaiya टाइप करके हमारे प्रोफाइल से एक दो मैटर शेयर क्लिक कर दें) 
                                                                                     Ashok Bhaiya 0- 9565120423